छड़ पाप जुलम दियां आदता जिह्ना दी जग निंदिया करे

नेकी खट ले जहां विच बंदेया तेरा यश दुनिया करे,
छड़ पाप जुलम दियां आदता जिह्ना दी जग निंदिया करे,

होया अमृत वेला उठ नाम थया ले,
ज़िन्द्जान अपनी तू सफल बना ले,
ले ले नाम तू गुरा दा प्रभु सिमरन कर तेरे नाल जो चले,
छड़ पाप जुलम दियां आदता जिह्ना दी जग निंदिया करे,

एह चार दिना दा जीवन तेरा सदा नि होना रेन बसेरा,
तू ता छड़ जाना जग सदा याद रख रब जो तेरे नाल चले,
छड़ पाप जुलम दियां आदता जिह्ना दी जग निंदिया करे,

धिया पुत्रा ने तेरे काम नहीं आना,
खाली हथ आया तू ते खाली हाथ जाना,
होया पिंजरा पुराण किसे संग नहीं जाना बंदे नाल तेरा,
छड़ पाप जुलम दियां आदता जिह्ना दी जग निंदिया करे,
श्रेणी
download bhajan lyrics (44 downloads)