न करो बंदगी न करो इबादत

न करो बंदगी न करो इबादत,
इक दूजे दे नाल प्यार करो इक दूजे दा सत्कार करो,
सब तो वडी है पूजा है सब तो बड़ा एह सजदा है एहो मेरा सतगुरु कहंदा है,
एहो मेरा दाता कहंदा है,

बन्दा बंदे दे कम आवे भावे ओ माला फेरे न,
दुखियां दी सेवा करदा रहे भावे आवे दर मेरे न,
जो सब ले खैरा मंगदा है सब नाल भलाई करदा है,
दिल विच मेरे ओ वसदा है,
न करो बंदगी न करो इबादत

नफरत दी खेती करदे जो नफरत दा ही फल चख दे ने,
एहो दस्त्रुर क्दरत दा जो भीज्दे ने ओह ही कट दे ने,
किकरा ते अम्ब नही लगदे पत्थर पनियां ते नही तर दे,
अंजाम बुरे ने बुरेया दे
न करो बंदगी न करो इबादत ...

तू पंज नमाजी कहलावी जा मथे तिलक सजावी तू,
गिरजा घर विच कैंडल वाले या नित गुरुद्वारे जावे तू,
दिल साफ़ जे तेरा नही साहिल फिर कुछ भी नही होना हासिल,
कुज सोच विचार तू एह गाफिल
न करो बंदगी न करो इबादत ....

श्रेणी
download bhajan lyrics (106 downloads)