कलयुग मे सिद्ध हो देव तुम्ही हनुमान तुम्हारा क्या कहना

कलयुग मे सिद्ध हो देव तुम्ही हनुमान तुम्हारा क्या कहना ।
तेरी शक्ति का क्या कहना, तेरी भक्ति का क्या कहना

1 सीता की खोज करी तुमने, तुम सात समुन्दर पार गये।
लंका को -किया शमशान प्रभु, बलवान तुम्हारा क्या कहना।
तेरी शक्ति का क्या कहना, तेरी भक्ति का क्या कहना

2 जब लखन लाल को शक्ति लगी तुम घोलगिर पर्वत लाये,
लक्ष्मण के बचाये आ कर के तब प्राण तुम्हारा क्या कहना,
तेरी शक्ति का क्या कहना, तेरी भक्ति का क्या कहना

3 तुम भक्त शिरोमनी हो जग मे तुम वीर शिरोमनी हो जग मे,
तेरे रोम रोम मे बसते हैं सिया राम तुम्हारा क्या कहना

सम्पर्क :प्रियदर्शन
राधा कृष्ण मंडल (ब्रजपुरी)
9313096912
9871634420
download bhajan lyrics (1734 downloads)