क्या मोर छड़ी जादू सा कर गी सारे जहां में

तेरी भोली भाली शान देख हो गया कुर्बान मैं,
क्या मोर छड़ी जादू सा कर गी सारे जहां में,

हर ग्यारस  में पैदल चल के तेरे धाम पे आउ मैं,
हो जाये दूर बीमारी सारी श्याम कुंड में नहाऊ मैं,
मंदिर की चोटी पे टाँगू लाया निशान मैं,
क्या मोर छड़ी जादू सा कर गी सारे जहां में,

मैया मोर भी के लाला करनी लेक सवारी तू,
हारे का सहारा तू ही तीन बाण धारी तू,
जिसपे फिर जाए नजर तेरी रहे तेरे ध्यान में,
क्या मोर छड़ी जादू सा कर गी सारे जहां में,

कप्तन शर्मा हुआ दीवाना इस महिला हरयाणा गांव,
मन मोजी सूरत तेरी खाटू वाले बाबा श्याम,
सोनू  कौशिक ला गा रहे तेरे गुणगान में
क्या मोर छड़ी जादू सा कर गी सारे जहां में,
download bhajan lyrics (53 downloads)