ओथे अमला दे होने ने

पढ़ी नमाज़ ते नियाज़ ना सिखया,
तेरीयां किस कम्म पढ़ियां नमाज़ा,
ना घर डिठा ना घर वाला डिठा,
तेरीयां किस कम्म दित्तियाँ नियाज़ा।
इल्म पढ़ेया ते अमल न कीता,
तेरीयां किस कम्म कितीयां वाजां।
बुल्हे शाह पता तद लग सी,
जदों चिड़ी फसी हथ बाजां।

ओथे अमलां दे होने ने नवेडे, किसे नी तेरी ज़ात पुछनी,
झूठे मान तेरे झूठे सब झेडे,किसे नी तेरी ज़ात पुछनी।


जो घडेया सो भज्जना एक दिन, जो बनेयां सो ढहना,
आखिर छड्डने महल मुनारे बैठ सदां नी रहना,
चार दिन दा मेला एथे बहुती देर नी बहना,
जो बीजेगा साधक झल्लेया ओही वड्डना पैना,ओथे अमलां दे,,,,,,,


कोल नी रखना भैण भरावां पल विच जा दफ़नाऊना,
तुर जाना तेनू सब ने छड्ड बहुता चिर नी लाऊना,
मुक जाने सब झेड़े तेरे हेठ मिट्टी जद आऊना,
उस दिन साधक रूस्से नूँ तेनू किसे नी आउन मनाउना,ओथे अमलां दे,,,,


तेनू मोडा दे के तोरना जहान ने,
आउना मिट्टी थल्ले तेरी उच्ची शान ने,
सुन्ने छड्ड के तूँ तुर वेहड़े, किसे नी,,,,,,,


झूठे मान ते आकड़ तेरी झूठीयां तेरीयां बातां,
गल्लां नाल बनावें पल विच दिनां नूँ कालीयां रातां,
झूठे महल मुनारे तेरे झूठीयां तेरीयां ज़ातां,
अमलां वाजों साधक ओथे किसे नी लनीयां
बातां,ओथे अमलां दे,,,,


किसे कोल घड़ी पल ना खलोना ऐ,
कीती अपनी नूँ सारेयां ने रोना ऐ,
होने वखो वक्ख संगी साथी तेरे,किसे ना तेरी,,,,


पंछी वांगूं उड़ जाना ऐ इक दिन मार उडारी,
क़दर ओहनां दी पैंदी ओथे अमल जिन्ना दे भारी,
हर शै छड्डनी पैनी बंदेया जान तों जेहड़ी प्यारी,
अज्ज तुरैया कोई कल तुर जाना, साधक बारो बारी,ओथे अमलां दे,,,,,,,,,,


बे बोल जुबान तो बोल चन्ग्गा,मीठे बोल दा जग्ग आसीर हुँदा,
मन्दा बोल कदी मुँहों कड़ीए ने,मन्दा बोल सज्जना तिखा तीर हुँदा,
इक बोल जहान विचों रध दिंदा, इक बोल निरा अकसीर हुँदा,
चेंज बोल दा बोलया शान उच्चा,चन्ग्गे बोल दा चन्ग्गा आखीर हुँदा,,,ओथे अमलां दे,,,,,,


किसे रोंदे नूँ हँसाया ऐ तां दस्स खां,
किसे भूखे नूँ राजया ऐ तां दस्स खां,
राह चों रोड़े नूँ हटाया ऐ तां दस्स खां,
कदी जख्मी किसे दा फट्ट नहींयों सीता,
ऐवे फेरी तस्बी कख भी नी कीता,ओथे अमलां दे,,,,


राह छड्डया दयंकदारी दा,वल्ल दस्से चरो यारी दा,
कर नाश ना नेको कारी दा,नेकां नूँ बदी सिखावें तूँ,ओथे अमलां दे,,,,,


लुक लुक के सौदे करना ऐ, बिन मेहनत बोझे भरना ऐ,
साधां नूँ चोर बनावें तूँ ना अल्लाह कोलो डरना ऐ,
पहले अमलां दी खुलना किताब ने,
वेखे जाने फेर सब दे हिसाब ने,
साधक आपो आप होने ने नखेड़े, किसे नी,,,,,,,



पंडित देव शर्मा बृजवासी
श्री दुर्गा संकीर्तन मण्डल
रानियां(सिरसा)
7589218797
श्रेणी
download bhajan lyrics (94 downloads)