रख लाज गरीबा दी सारे जग दे सैयां वे,

रख लाज गरीबा दी सारे जग दे सैयां वे,
मैं सारा जग छड़ के,
संग तेरे लाइयाँ वे,
रख लाज गरीबा दी सारे जग दे सैयां वे,

हथ रखी मेहरा दा साढ़े सिर ते आन के,
रखी ला के चरना नाल साहनु अपना जान के,
तेरे नाम दियां सिर ते रेहन मस्तियाँ छाइयाँ ने,
रख लाज गरीबा दी सारे जग दे सैयां वे,

भूल हॉवे न मेटो मत ऐसी बक्शी तू,
करा भला मैं दूजे दा ऐसी देवी शक्ति तू,
मैं अपने सिर लैला पीड़ा पराइया वे,
रख लाज गरीबा दी सारे जग दे सैयां वे,

इस दुनिया विच सैया मन भटके मेरा न,
हर हाल विच लवा दिन रात मैं तेरा नाम,
तेरा रावा विच साइयाँ अखियां विशाइयाँ वे,
रख लाज गरीबा दी सारे जग दे सैयां वे,

जिस पल तनु भुला कदे पल ओ आवे न,
मेरे जीवन दा कोई पल विरखा जावे न,
हर युग विच भगता दिया तू रख विखाइया वे,
रख लाज गरीबा दी सारे जग दे सैयां वे,

किसे चीज दा मैनु कदे मान हॉवे न,
मेटो कदे वि किसे दा नुक्सान हॉवे न,
सदा चंगी सिखियाँ दियां,
मैं करा पढ़ाइयाँ वे,
रख लाज गरीबा दी सारे जग दे सैयां वे,

ऐसी तेरे रेहम दी कर सकदे गिनती न,
तेरा हिरदे किना विशाल कर सकदे मिंटी न,
की की लिखे झोल्ली तेरियां बड्याईया वे,
रख लाज गरीबा दी सारे जग दे सैयां वे,
श्रेणी
download bhajan lyrics (188 downloads)