हूँ दर्शन दे जोगी तारदे लाई कातो देरी

एह भगत प्यारे ने जोगियां लौंदे तेरे जय कारे,
तू मालिक दुनिया दा कहन्दे पौणाहारी सारे,
दिल तनु लभदा है जोगियां पा साढ़े घर फेरी,
हूँ दर्शन दे जोगी तारदे लाई कातो देरी,

एह नैन तरसदे ने जोगियां मुख वेखन न तेरा,
हूँ तरले पौने आ जोगियां पा साढ़े घर फेरा,
तेरी सूरत मन मोहनी जोगियां क्यों बदला गा तेरी,
हूँ दर्शन दे जोगी तारदे लाई  कातो देरी,

तेरी मोर सवारी है जोगी दे सिर ते चन सितारे,
चरना विच स्वर्ग दिसे बाबा जी बीते पार उतारे,
इक तनु पौने है सदा चित तड़फ दी रेहँदी मेरी,
हूँ दर्शन दे जोगी तारदे लाई  कातो देरी,

हूँ खोली दरवाजे जोगियां दर तेरे ते खड़ के,
तनु पौना औखा है जिहने पा लिया भव तो तर गए,
कर रोशन हो जावे जे हो जे निघा मेहर दी तेरी,
हूँ दर्शन दे जोगी तारदे लाई  कातो देरी,

मेरे पौणाहारी जी लगाए विच गुफा दे डेरे,
तनु लभ लिया सुमन नवी लग गई नैन फ़िक्र नि तेरे,
हूँ छड़ के ना जावी मैं होजु चरना  दे विच ढेरी,
हूँ दर्शन दे जोगी तारदे लाई  कातो देरी,
download bhajan lyrics (36 downloads)