नचदी नाचौन्दी इक भगता दी टोली

नचदी नाचौन्दी इक भगता दी टोली,
पौणाहारी दर चलिए, दूधाधारी दर चलिए,
नच्दे दे ने गौणदे ने भेटा भी सुनान्दे ने,
कई लाउंदे ने जय कारे पौणाहारी दे प्यारे,
नचदी नाचौन्दी इक भगता दी टोली,

हाथ विच झंडे ने तेरे रंग रंगे ने आउंदे कोई स्यीक्ला ते पैरो कई नंगे ने,
कई सूखा भी चढ़ौन्दे कई मौली बन आनदे,
नचदी नाचौन्दी इक भगता दी टोली,

रत्नो न पाली एह करे साड़ी रखवाली है,
जेहड़ा दर आवे मुहे चढ़ जांदी लाली है,
ओहदे नाम दे सहारे आउंदे चेत न दुवारे,
नचदी नाचौन्दी इक भगता दी टोली,

सनी मंगे रेहमता मूक जान जेमता,
दर तेरे आके मन नु जी मिले चैन ता,
योगी भर दे खजाने साहनु करे न बेगाने,
नचदी नाचौन्दी इक भगता दी टोली,

रोट भी चडोना है दर बार बार आउने है,
नवी सुमन नैंसी ने  नचना ते गौना है,
ऐसा कर्म कमा दे करोड़पति भी बना दे,
नचदी नाचौन्दी इक भगता दी टोली,
download bhajan lyrics (29 downloads)