साई जप्या ते गल बन गई

जद वि मुश्किल सिर उते पई,
साई साई जप्या ते गल बन गई,
बाबा साई जप्या ते गल बन गई

जा लभ ले शिरडी वाले न किते खुशिया वंद दा हॉवे गा,
जो ढूबन लगे मजधार दे विच ओह्दी बाह नु फड़ दा हॉवे गा,
साई साई जप्या ते गल बन गई,

जरा साई तो जा के मंग ता सही,
ओहदे बूहे अर्जी टंग ता सही,
तेरी आस न पूजे फिर कह दई,
तेरी गल बने न फिर कह दई,
गल तेरी बने न तू मैनु फड़ लई,
साई साई जप्या ते गल बन गई,

जेहड़ा बेहड़ी बने लौंडा है,
जेहड़ा सब दे कर्म कमोदा है,
जेहड़ा दुखियाँ दर ते आ जावे ओह्दी झोली मुरदा पौंदा है,
जदो दी साई ने मेरी बाह फड़ लई,
साई साई जप्या ते गल बन गई,
श्रेणी
download bhajan lyrics (212 downloads)