किसे दी गरीबी

किसे दी गरीबी दा मजाक नही उड़ाई दा,
तू की जाने भेद मेरे साईं दी खुदाई दा,
किसी दी गरीबी ......
मथे दियां लीका नाल मथा नही लाईदा,
किसे दी गरीबी ........

कल दा की पता हुन कहर की गुजारना,
कदे पेंदा जितना ते कदे पेंदा हारना,
लेखा दे सताया नु नि होर सताई दा,
किसे दी गरीबी ........

पता नहियो कह्देया रंगा विच राजी है.
पल विच जीती बन्दा हार जांदा बाजी है,
रब दी रजा दे विच राजी रहना चाहिदा,
किसे दी गरीबी ........

करदा है मान इथे कोठियां ते चारा दा,
निकल दिवाला जन्दा वड़े शाहुकारा दा,
पैसे पीछे लगया ते यार नि गवाई दा,
किसे दी गरीबी ........

सधरा ते चाहवा वाला गला घुट जनदे ने,
अपना बना के इथे यार लुट जांदे ने
एवे हर साथी नु नि सजन बनाई दा,
किसे दी गरीबी ........
श्रेणी
download bhajan lyrics (27 downloads)