जे तू फड़दा ना साडी बाहँ असां रुल जाना सी

जे तू फड़दा ना साडी बाहँ, असां रुल जाना सी
सानु किते ना मिलदी थां, असां रुल जाना सी

नचदी तपदी यह जिंदगी होनी सी,
मेरे जीवन दी कोई होर कहानी होनी सी
जे तू ना मिलदा घनश्याम, असां रुल जाना सी
सानु किते ना मिलदी थां, असां रुल जाना सी

भावें लखां होण जबान ते गुण नहीं गा सकदी
मेरे मालिक तेरा कर्ज अदा नहीं कर सकदी
जे तू देंदा ना खुशीआं, असां रुल जाना सी
सानु किते ना मिलदी थां, असां रुल जाना सी

कई जनम होए बर्बाद ना रास्ता मिलिया सी
होई किरपा ते जिंदगी दा यह फूल खिलया सी
जे तू देंदा ना ठंडी छा, असां रुल जाना सी
सानु किते ना मिलदी थां, असां रुल जाना सी

तू मेरा ए मैं तेरा यह रिश्ता टूटे ना,
भावे छूट जावे जग सारा तेरा दर छूटे ना
जे दर ते ना मिलदी थां, असां रुल जाना सी
सानु किते ना मिलदी थां, असां रुल जाना सी
download bhajan lyrics (2382 downloads)