धीरे धीरे अँखियाँ माँ खोल रही है

धीरे धीरे अँखियाँ माँ खोल रही है,
लगता है मईया कुछ बोल रही है,

दुनिया के नज़ारे तो बेजान लगते ,
सूरज चन्दा कौड़ी के समान लगते,
आत्मा में अमृत घोल रही है ,
लगता है मईया कुछ बोल रही है,

आएगी जरूर मईया आज सामने,
अपने भगतों का देखो हाथ थामने ,
मिलने का मौक़ा ये टटोल रही है ,
लगता है मईया कुछ बोल रही है ,

लागे ना नजर मुझे हो रही फिकर ,
हीरे और मोती से उतार दूँ नजर ,
क्या करूँ मेरा तो ऐसा जोर नहीं है,
लगता है मईया कुछ बोल रही है ,

बनवारी ऐसी तकदीर चाहिए ,
आत्मा में माँ की तस्वीर चाहिए ,
ऐसा ये असर दिल पे छोड़ रही है ,
लगता है मईया कुछ बोल रही है ,

भजन गायक - माधुरी मधुकर
संपर्क - 8902154970
download bhajan lyrics (78 downloads)