जिवे असा उडीका पाइया गुरा नु मिलन लई

जिवे असा उडीका पाइया गुरा नु मिलन लई,
इक वार ता साड़ी याद गुरा न आई होनी एह,
जिवे असा प्रीता लाइया गुरा दे दर्श ले,
उस प्रीत मेरी ते गुरा ने नाल निभाई होने एह,

मेरे मन मंदिर विच बैठे गुरु जी बोल दे ने,
मैनु सच दे मार्ग ते गुरु जी तोल दे  ने,
इक कदम जे असा वडाया गुरा न मिलन लई,
कई कदम गुरु जी ने वदाये होने ने,
जिवे असा उडीका पाइया गुरा नु मिलन लई

मेरे मालिक दी वडाइयाँ मैं की कर पावा,
मैनु दिता जो मेरे गुरु ने मैं की लौटावा,
एक कोड़ी सेवा किती गुरु दरबार नहीं,
उस कोड़ी न भी भाग गुरा ने लाये होये ने,
जिवे असा उडीका पाइया गुरा नु मिलन लई

तू अंतर यामी सतगुरु दिल दियां जान दा है,
ओ घट घट वासी सतगुरु पहचान दा है,
तेरे गुण गाये संगत  ने  तनु पान लई,
अपनी महिमा सुनके खींच तनु आई होनी है,
जिवे असा उडीका पाइया गुरा नु मिलन लई
download bhajan lyrics (105 downloads)