हथ जोड़ कर अरदास

हथ जोड़ कर अरदास गुरु जी सुंदे ने,
तू रख मन विच विश्वाश गुरु जी सुंदे ने,

मेरा माहि मेरा प्रीतम प्यारा,
सबने दी ओ आँख दा तारा,
जिसदे सिर ते हथ गुरु दा,
होया उस दा पार उतरा,
तू रख मन विच विश्वाश गुरु जी सुंदे ने,
हथ जोड़ कर अरदास........

भगति दा है फूल जदो खिल दा,
सच्चे गुरा दा संग है मिलदा,
पुराण किरपा हॉवे जिसते सच मार्ग दा रास्ता दिसदा,
तू रख मन विच विश्वाश गुरु जी सुंदे ने,
हथ जोड़ कर अरदास.....

श्रदा नाल जो गुरा न त्यावे,
मन वांचणक सगले फल पावे,
गुरु चरनी जो शीश झुकावे,
काल फास ओहदे निकट न आवे,
तू रख मन विच विश्वाश गुरु जी सुंदे ने,
हथ जोड़ कर अरदास...

अंतर् यामी राखी करदा,
समरथ दाता झोलियाँ भर दा,
बड़े मंदिर दी शोभा इतनी जो भी आवे सो है तर दा,
तू रख मन विच विश्वाश गुरु जी सुंदे ने,
हथ जोड़ कर अरदास
download bhajan lyrics (157 downloads)