रगड़ा शंकर दा

शिव भोले दी जटा च गंगा तर झंडा है हर इक बंदा,
हाथ त्रिशूले फब दा रगड़ा शंकर दा,
मस्ती दे विच रंग दा रगड़ा शंकर दा,

कावड़िये सब पैदल आनदे,शिव बूटी दे सुटे लांदे,
मस्ती दे विच हो मस्ताने शिव नाम दे होये दीवाने
ना आक दा न थक दा रगड़ा शंकर दा,
मस्ती दे विच रंग दा रगड़ा शंकर दा,

डमरू भोले दा सांज निराला गल विच पाइयाँ फनियाँ माला ,
तन ते भस्म रमाई रखदा तांडव कर कैलाश ते नच  दा,
अख जरा नई पट दा रगड़ा शंकर दा,
मस्ती दे विच रंग दा रगड़ा शंकर दा,

लालवास् ते शोबे ते एह की खुशियां न झोली भर ती,
घाट रही न किसे चीज दी जय जय कार है करती,
बाबू नु भी मान बख्शदा दुःख सबना दे हर दा रगड़ा शंकर दा,
मस्ती दे विच रंग दा रगड़ा शंकर दा,
श्रेणी
download bhajan lyrics (73 downloads)