जब सिर पर तेरा हाथ

जब सिर पर तेरा हाथ नाथ मैं क्यों डोलू,
जब मिल गया तेरा साथ नाथ मैं क्यों डोलू,

ये नैया राम हवाले है,
पग पग पर आप सम्बाले है,
मेरी टेक एक रघुनाथ नाथ मैं क्यों डोलू,
जब सिर पर ....

तू रहबर है तो किस का दर है,
पग पग पर स्वामी इश्वर है,
मेरी बिगड़ी बना दो बात नाथ मैं क्यों डोलू,

पंहुचा दे कभी किसी ताता पर,
जीवन घट पर या मरघट पर,
सब और तेरा है साथ नाथ मैं क्यों डोलू,

जग रूठा हो तो रुठन दे,
पर अपनी तार ना टूटन दे,
निर्दोष तुम ही पिट्टू मात नाथ मैं क्यों डोलू,


babitasukhija6232@gmail.कॉम
Babita Sikhini....9729376232