नचदी टपदी वृंदावन जानी हाँ मैं

नचदी टपदी वृंदावन जानी हाँ मैं,
अपने बांके दी ख़ास दीवानी हां मैं,

श्याम सलोना मेरा दुनिया तो वख है,
बांके बिहारी नाल लड़ी मेरी आँख है,
प्यारे प्रीतम दा प्यार पानी हां मैं,
मुरली वाले दी खास दीवानी है मैं.....

तन मन किता मैं ता श्याम हवाले,
हर दुःख विच मैनु आप सम्बाले,
तहियो कान्हा दी ख़ास दीवानी हां मैं
नचदी टपदी वृंदावन जानी हाँ मैं...

बांके बिहारी दी शोभा है न्यारी,
कमल कपिल पूरी जान बलिहारी,
चल पूनम दा वस् दिखी जानी आ मैं,
नचदी टपदी वृंदावन जानी हाँ मैं,