जलवा है मेरे साईं का

जलवा है मेरे साईं का रहता है फिज़ाओ में,
रुतबा मेरे बाबा का दीखता है दुआओं में,

पानी से दीप जलाया हुई रोशन ईद दिवाली,
वो नीम की छाव में बेठा उसकी सरकार निराली,
खुशबु की तरह बिखरा साईं नाम हवाओ में,
जलवा है मेरे साईं ......

हर बिगड़े काम बनाता राजा वो शिर्डी वाला,
दर पर उसके जो जाये,
खुलता किस्मत का ताला,
सूरज की किरण में वो सावन की घटाओ में,
जलवा है मेरे साईं .......

राई को बना दे पर्वत पर्वत को बना दे राइ,
वो नंगे पाँव ही लौटी जितनी भी क़यामत आई,
वो राम रहीम बना भगतो की निगाहों में,
जलवा है मेरे साईं....

श्रेणी