विच बरसाने दे उड़ डा बड़ा गुलाल

विच बरसाने दे उड़ डा बड़ा गुलाल,
लोकि नचदे ने श्याम सुन्दर दे नाल,
ओ विच बरसाने दे...

गोपियाँ गावलियाँ ने घेरिया कन्हैया आज फड़ के बिठा लिया कोल वे,
मुरली दी तान ते नाचै बड़ी दुनिया ले वजियां पंजाबियां दा ढोल वे,
हास्या कन्हैया फड़ गल नाल लाइ गोपी कर दिति मालो माल,
विच बरसाने दे उड़ डा बड़ा गुलाल,
लोकि नचदे ने श्याम सुन्दर दे नाल,
ओ विच बरसाने दे...,

नन्द गांव वलियाँ दा वजियां नगाड़ा जिहने ने हाथ विच फड़ी पिचकारी,
सखियाँ सहेलियां ते रंग बरसाया जड़ो लठ बरसै बड़ी बाहरी,
लाडली किशोरी जी भी मेहला विचो उतरी दुनिया होइ निहाल,
विच बरसाने दे उड़ डा बड़ा गुलाल,
लोकि नचदे ने श्याम सुन्दर दे नाल,
ओ विच बरसाने दे...

फूल होली कीच होली  लाडुआ दी होली नी तू खेल ले रंग होली,
होली दे बहाने आज चरना न फड़ लई तू भेद ना किसे कोलो खोली,
छड़ हरिदासी झूठे जग दी खुअशी कुज अपना आप सुधार,
विच बरसाने दे उड़ डा बड़ा गुलाल,
लोकि नचदे ने श्याम सुन्दर दे नाल,
ओ विच बरसाने दे...
श्रेणी
download bhajan lyrics (205 downloads)