मैं झांझर बण जां माई

हथ बन्न करदा मैं अरदासा, नी माइये शाम सवेरे,
कर अर्जी मंजूर माँ मेरी, झुकिया रहां दर तेरे,
हर पल माये अरजां करदी, मेरी हर इक आंदर,
अपणे पारस चरणा दी, मैनु बनाले झांझर,

मैं  झांजर बण जां माई दी, मैं झांझर बण जां माई दी,
जे माई मैनू चरणी लावे , कोई होर ना दौलत चाहिदी,
मैं झांझर बण जां माई दी,

माई दे दर दी करां गुलामी,
अठ्ठे पहर सवेरे शामी,
अंग संग रहे माँ अन्तर्यामी,
मेहर माई दी जे हो जावे ,
कोई होर ना दौलत चाहिदी
मैं झांझर ......

माई दी हिरदे जग जाए जोती,
मैं कंकर तों बण जां मोती,
माँ ही दिस्से हर थां  खलोती,
माँ जे निम्मियाँ नू  अपनावे ,
कोई होर ना दौलत चाहिदी
मैं झांझर बण  जां ....

माई दे चरणा नू मैं चुम्मा,
नाल माई दे दुनिया घुम्मा,
चार चुफेरे पै जाण धुम्मा,
माँ जे खैर मेहर दी पावे ,
कोई होर ना दौलत चाहिदी
मैं झांझर ......

हर पल अपने भाग सेहलवां
दोष मिट्टन निर्दोष कहांवा
जगजननी दे सदके जांवां
माँ दे मन नू जे ओह भावे,
कोई होर ना दौलत चाहिदी
मैं झांझर.........


download bhajan lyrics (59 downloads)