जे ना होई सुनवाई दर तेरे गरीब दस्स कित्थे जाणगे

जे ना होई सुनवाई दर तेरे, गरीब दस्स कित्थे जाणगे।
दूर किते ना जे दुखां दे हनेरे, गरीब दस्स कित्थे जाणगे॥

जिन्ना पल्ले पैसा तैनू चुन्नियां चढ़ाउंदे ने,
हार लै के हंजुआं दे, मेरे जेहे वी आउंदे ने।
जे तू ओहना वल्लों अख्खिया माँ फेरे,
गरीब दस्स कित्थे जाणगे॥

साडा की कसूर तुहीयो लिखिआं लकीरां ने,
किसी नू पोशाकां देवे किसे तन लीरां ने।
जिन्ना वेखे ना माँ सुखां दे सवेरे,
गरीब दस्स कित्थे जाणगे॥

कईयां नू महल दित्ते, किसे सर छत्त ना,
तेरीआं माँ तू ही जाने, साडे कोल मत्त ना।
सारे खेड ने रचाए माँ एह तेरे,
गरीब दस्स कित्थे जाणगे॥

किते पकवान किते रोटी दे वी लाले ने,
किते रातां कालीआं ने किते माँ उजाले ने।
‘दास’ वरगे वी बच्चे ने बथेरे,
गरीब दस्स कित्थे जाणगे॥
download bhajan lyrics (737 downloads)