मेरे विच ना गुरु जी गुण कोई

मेरे विच ना गुरु जी गुण कोई
औगना दी मैं भरी आ

हम मैले तुम उज्वल करते,
सरब कला के ज्ञाता,
औगना दी मैं भरी आ..

मैं डूबदी नु पार लगाओ,
ओ तेरे चरणा च आन खलोती,
औगना दी मैं भरी आ

हम पापी तुम पाप खंडन,
सदा सदा मेहरबाना,
औगना दी मैं भरी आ

मैं पापन दी झोली भरदो,
ओ तेरे दर उते अरजा गुजरा,
औगना दी मैं भरी आ

भूले को गुरु मार्ग पाया,
अवर त्याग हर हर भक्ति लाया,
मैं सदा सदा बलिहारी,
औगना दी मैं भरी आ

ना सोनी ना दोलत पल्ले,
किवे मैं गुरा नु मनावा,
औगना दी मैं भरी आ..

अम्बला वालियां सब नंग गईया,
मैं रह गई ओगन भारी,
औगना दी मैं भरी आ......

download bhajan lyrics (214 downloads)