जिन्दगी मेरी यूँ ही गुजर गयी

जिन्दगी मेरी यूँ ही गुजर गयी,
बिन तेरे साईं बिन तेरे साईं ॥

पापी था ये मन पापी ये जीवन,
बुरी संगत थी भटका था योबन ॥
बस उमरिया मेरी बीती युही बीती,
जिन्दगी मेरी यूँ ही गुजर गयी

मन भटक ता था सांस रूकती थी ,
याद में तेरी आंखे रोती थी,
सारी दुनिया से हारा तेरी भक्ति मैंने की,
जिन्दगी मेरी यूँ ही गुजर गयी....

रखलो शिर्डी में दास तेरा हु,
शिर्डी वाले मैं दास तेरा हु,
मेरी किस्मत जगा दे मलू माथे पे बबुती,
जिन्दगी मेरी यूँ ही गुजर गयी
श्रेणी