दहि बेचन को राधा चली

दहि बेचन को राधा चली,  कन्हैया जी को अच्छी लगी,

गोरे गोरे मुख पर लाल-लाल बिंदिया,
ऊपर से माँग भरी, कन्हैया जी को अच्छी लगी....

गोरे-गोरे हाथों में हरी-हरे चुड़ियाँ,
ऊपर से मेहंदी लगी, कन्हैया जी को अच्छी लगी.....

गोरे-गोरे तन पर नीली-नीली साड़ी,
ऊपर से पीली चुनरी, कन्हैया जी को अच्छी लगी.....

गोरे-गोरे मुख पर लाल-लाल बिंदिया,
ऊपर से माँग भारी, कन्हैया जी को अच्छी लगी.....

गोरे-गोरे पाँवों में बजनी सी पायल,
ऊपर से महावर लगी, कन्हैया जी को अच्छी लगी...
श्रेणी
download bhajan lyrics (231 downloads)