आये अवध जगतपति प्यारे

तर्ज़ :- मेरे ढोल दी चिठी कोई आई (पंजाबी )
आये अवध जगतपति प्यारे, राम रघुवंश मणि।

यज्ञ सरिंगी दा ,बहार लैके आ गया।
                      फलया कल्पतरु,मंगल छा गया॥
पूरे होए इकरार अज सारे - राम रघुवंश०

शेष संग शेषपति, लै अवतार आये।
                      जोतिषी बन शम्भु,करन दीदार आए॥
मिले इष्ट नूँ इष्ट प्यारे - राम रघुवंश०

कमल जहे नैन,मथा चंन वांगू हसदा।
                    शाम सिलोना राम,नूर ब्रह्माण्ड दा॥
मन मोहने बाल घुँघरारे - राम रघुवंश०

पापी पारखंडी सब डोले घबराये ने।
                  मुके दुःख धरती दे, देव हरषाये ने॥
चन सूरज चमकन तारे - राम रघुवंश०

करके दीदार अज ,बिगड़ी संवार लौ।
                तपदे अशांत मन ,कर ठण्डे ठार लौ॥
मुखों बोल ‘‘मधुप’’ जय जयकारे - राम रघुवंश०।
download bhajan lyrics (66 downloads)