जादू भरी तेरी आँखें जिधर गयी

जादू भरी तेरी आँखें जिधर गयी ,
       घायल करके जिग़र में उतर गयी -3

निरख छटा घनघोर घटा -2
               सावनां सी उमड़ गयी ,
घायल करके जिगर में उतर गयी -2
जादू भरी तेरी.....

प्रेम की लरी अरी दृग दोनों,
              बरस परी मोती सी बिखर गई -2
जादू भरी तेरी आँखें जिधर गयी ,
           घायल करके जिग़र में उतर गयी -3


कि इक कंकड़ी नैन पड़े,तो नैन होत बेचैन,-2
           तो उन नैनन में चैन कहां,जिन नैनन में नैन।
जादू भरी तेरी आँखें जिधर गयी ,
       घायल करके जिग़र में उतर गयी -3

अब पल पलक टरत नहीं टारे,
            छीन छोरत जनु जान निकर गई -2
जादू भरी तेरी आँखें जिधर गयी ,
          घायल करके जिग़र में उतर गयी-2


नैन कटारी बारी बारी पलकन मारी -3
           जादू की पिटारी जिया छुई मुई कर गयी -2
जादू भरी तेरी आँखें जिधर गयी ,
          घायल करके जिग़र में उतर गयी-2

हमें औरन से कछु काम नहीं ,
                 अब तो जो कलंक लगो सो लगो-2
और रंग दूसरो और चढेगो नहीं ,
                क्योंकि ,सखी साँवरो रंग रंगो सो रंगो -4
जादू भरी तेरी आँखें जिधर गयी ,
            घायल करके जिग़र में उतर गयी-2  

हो......जिगर में उतर गयी।
download bhajan lyrics (195 downloads)