हे री कोई आया हे जगत मे

हे री कोई आया हे जगत मे. आतम ग्यान कराने वाला।    
आतम  ग्यान  करने वाला . रविदास कहाने वाला॥

नहाने के बहाने मै तो. गंगा पर गई थी।
हे री वे तो गंगा मे समाएँ ...........॥

पुजा के बहाने मैतो. मन्दिर मे गई थी ।
हे री वे तो ज्योति मे समाएँ..........॥

दर्सन  के बहाने मतो. सत्सग मे गई थी ।
हे री वे तो  संतो मे समाएँ............॥

कह मीरा रविदास जी की चेली .सुनियो हे मेरी सखी सहेली ।
हे री गुरू हदय मे समाएँ...........॥

आत्म ग्यान करने वाले
श्रेणी
download bhajan lyrics (120 downloads)