तेरे भवन विच लगीया रौणका

सारा पर्वत जगमग जगदा ऐ, मैनु स्वर्ग नजारा लगदा ऐ,
अज वेख वेख मन्दिरां नु, दिल मेरा दातीऐ भरदा नही,
तेरे भवन विच लगीया रौणका, मेरा दिल माँ जान नु करदा नी,
तेरे भवन विच लगीया रौणका, मेरा दिल माँ जान नु करदा नी,
करदा नी करदा नी करदा नी, दिल माँ जाण नु करदा नी,
तेरे भवन विच लगीया रौणका, मेरा दिल माँ जान नु करदा नी......

तेरी पावन गुफा दे दर्शन कर, मन चरणां दे विच लाया ऐ,
अज तेरे द्वारे तों, खुशीया दी झोलीया भर लाया ऐ,
ओदी किस्मत खोटी रह जांदी, जो द्वारे तेरे दी पौड़ी चढ़दा नही,
तेरे भवन विच लगीया रौणका, मेरा दिल माँ जान नु करदा नी,
करदा नी करदा नी करदा नी, दिल माँ जाण नु करदा नी,
सारा पर्वत जगमग जगदा ऐ....

मैनु नाम दे विच रगंया ऐ, तेरे प्यार दी चढ़ गई मस्ती माँ,
मै नौकर हो गया इस दर दा, मेरी मिट गई सारी हस्ती माँ,
बङे अजब नजारे माँ तेरे देख, मेरा दिल माँ जाण दा करदा नी,
तेरे भवन विच लगीया रौणका, मेरा दिल माँ जान नु करदा नी,
करदा नी करदा नी करदा नी, दिल माँ जाण नु करदा नी,
सारा पर्वत जगमग जगदा ऐ.......

पा माँ मुरादा भक्ता नु, तेरे पल पल दर्शन पाऊंण दीयां,
सदा रह के तेरे चरणां विच, तेरी जय जय कार बुलाण दी,
जिने दीद ना पाई दाती दी, ओ भवसागर तो तरदा नही,
तेरे भवन विच लगीया रौणका, मेरा दिल माँ जान नु करदा नी,
करदा नी करदा नी करदा नी, दिल माँ जाण नु करदा नी,
सारा पर्वत जगमग जगदा ऐ......
download bhajan lyrics (154 downloads)