मोरनी बनके बाग में नाचूँगी

मोरनी बनके बाग में नाचूँगी घनश्याम बजा दे मुरलिया.....

जब रे श्याम लांघता पे आये,
हम सब के वह चीयर चुराए,
मैं घर को कैसे जाऊँगी घनश्याम बजा दे …

मोहन संग सब रास रचावे,
बिन मोहन के चैन ना आवे,
रात मोहन को तड़पाऊँगी घनश्याम बजा दे …

छलिया करता है छल सबसे,
फिर भी रहता दिल में सबके,
श्याम के नैनन में बस जाऊँगी घनश्याम बजा दे मुरलिया…..
श्रेणी
download bhajan lyrics (58 downloads)