मन विच मनमोहन बसा ले जंगला च की टोल्दा

मन विच मनमोहन बसा ले जंगला च की टोल्दा.....

दिन रात तेरा दिल क्यू धड़कदा,
इक इक पाप तेरे सीने उत्ते लड़कदा,
मन शीशे वांगू साफ बनाले जंगला च की टोल्दा,
मन विच.....

सारे काम काज छड़ उसदी जिम्मेदारी ते,
ज़िंदगी दी डोर छड़ कृष्ण मुरारी ते,
धन्ने जाट वांगू नौकर रखा ले जंगला च की टोल्दा,
मन विच......
श्रेणी
download bhajan lyrics (269 downloads)