मंदिरा दे कोनेया च देदे कोई कोना माँ

मंदिरा दे कोनेया च देदे कोई कोना माँ,
जित्थे बैके रो लइए उम्रा दा रोना माँ,
मंदिरा दे कोनेया च देदे कोई कोना माँ.....

लोका अग्गे रोन वाले बणदे मखौल ने,
हंजूआ दे मोती लोकी पत्थरा च तोल ने,
दुजेया दा दुःख हुंदा लोका लई खिडोना माँ,
जित्थे बैके रो लइए उम्रा दा रोना माँ,
मंदिरा दे कोनेया च देदे कोई कोना माँ.....

दिलां दा गुबार दस किदे अग्गे के कडीये,
पलड़ा उदासीयां दा किदे अग्गे अडीये,
कोई तेरे जेहा मायें हमदर्द नहियो होणा माँ,
जित्थे बैके रो लइए उम्रा दा रोना माँ,
मंदिरा दे कोनेया च देदे कोई कोना माँ.....

अपने नसीबां उत्ते चलदा ना जोर ऐ,
हारेयां बच्चेयां ते करे कौन गौर ऐ,
दुःख अपना तां मायें आपे ही ढोना माँ,
जित्थे बैके रो लइए उम्रा दा रोना माँ,
मंदिरा दे कोनेया च देदे कोई कोना माँ.....

कहण नू ते संगी साथी चतर चलाक ने,
डुब-डुब जांदे चंगे-चंगे तैराक ने,
साहिल ने वेखेया ऐ डुबना डुबोना माँ,
जित्थे बैके रो लइए उम्रा दा रोना माँ,
मंदिरा दे कोनेया च देदे कोई कोना माँ.....
download bhajan lyrics (48 downloads)