ओम जय गणेश

कोरस-ओम जय गणेश जय जय गणेश

गोरा मां दा पयारा ए शिव दी अख दा तारा ए
कटदा ए दुख ते कलेश भगतो कटदा ए दुख ते कलेश
ओम जय गणेश़़...........

महिमा एहदी अपरमपार ,सारे जग दा पालनहार
लडुया दा अायो भोग लगाईये ,मुहो मंगीयां मुरादा पाईये
सिर ते मुकट सुनिहरी ए ,हर ईक रमज ही गैहरी ए
भगता नु तारदा हमेश ,भगतो भगता नु तारदा हमेश
ओम जय गणेश़़.............

पहला गोरी लाल मनाईये,शरधा मन चित नाल धयाईये
आस पुरी कर दयुगा ए,खाली झोलीयां भर दयुगा ए
मुसे दी सवारी ए ,लाला इसदी नयारी ए
जिस घर करे परवेश गनपत जिस घर करे परवेश
ओम जय गणेश ...........

सुख पावे जो रजा च रहदां,विरका दा वलिहार है कहदां
आपने जना नु तारे गनपत सबदे काज सवारे गनपत
बिटटु महिमा गाऊदां ए धुप ते जोत जगाऊदां ए
सबनु ही देवे उपदेश भगतो सब नु ही देवे उपदेश
ओम जय गणेश............


लेखक-परीत वलिहार विरका वाला
सिगंर- विपन शरमा बिटटु
कैसट-चुनीयां लालो लाल
मोबाईल-098154 02742
श्रेणी
download bhajan lyrics (143 downloads)