केड़िया गलां दा तैंनूं वट‌ वे

केंड़ियां गल्लां दा तैनू वट वे,
कुझ बोल मुरली ‌वालेया
बोल मुरली वालेया,
बोल हारां वालेया,
केंड़ियां गल्लां दा तैनू वट वे....

रोज रोज तेरे दर ते आवां,
तरले कर कर श्याम मनावां,
कदी ना मिलाई श्याम अख वे,
कुझ बोल मुरली वालेया,
केंड़ियां गल्लां दा तैनू वट वे....

पानी भरंण मैं जमना ते जांवां,
पिच्छे आंन्दा मेरे बण परछांवां,
फिर पा जांन्दा वट वे,
कुझ बोल मुरली वालेया,
केंड़ियां गल्लां दा तैनू वट वे....

केहड़ी गल दी आकड़ हैं करदा,
रंग काले दी लाज ना करदा
वेख चढांन्दा नक वे
कुझ बोल मुरली वालेया,
केंड़ियां गल्लां दा तैनू वट वे....

हिक वारी शयामा हांसी आवें,
सब नू अपणां दर्श विखावें,
नही लगदा तैनू झट वे
के बोल मुरली वालेया
केंड़ियां गल्लां दा तैनू वट वे....
श्रेणी
download bhajan lyrics (96 downloads)