सीया सुकमारी मिथिला के दुलारी

सीया सुकुमारी मिथिला की दुलारी,
पाहून हमर रघुवर धनु धारी....

चारौ दूलह दशरथ के रे नंदन।।
अद्भुत रूप निहारी...-2
भेलौ मगन सुनि नर और नारी।।
पाहून हमर रघुवर.....

रूप बदल ऋषि मुनि सब एला।।
और पुष्पन बर साई...-2
अब अवध पूरी के युवराज रघुराइ।।
पाहून हमर रघुवर.....

जिनकर वर्णन वेद करै अछी।।
अखिल लोक सुखदाई...-2
कौशल्या सूत राम जमाई।।
पाहून हमर रघुवर .....

सीया सुकुमारी मिथिला की दुलारी,
पाहून हमर रघुवर धनु धारी....
श्रेणी
download bhajan lyrics (82 downloads)