दुखिया दे दुखड़े हरदा

दुखिया दे दुखड़े हरदा, दर ऐ सतगुरु दा,
सुखा नाल झोलिया भरदा, दर ऐ सतगुरु दा,
दुखिया दे दुखड़े हरदा, दर ऐ सतगुरु दा॥

जिसदा लंगर मिलदा हर इक भूखे भाने नू,
इको पंगत च बहके राजे की राणे नू,
ना ऊंच-नीच कोई करदा, दर ऐ सतगुरु  दा,
दुखिया दे दुखड़े हरदा, दर ऐ सतगुरु दा॥

जीथे भक्ति दी ऐ वगदी अमृत धारा जी,
इक मन इक चित सुन के आवे अजब नजारा जी,
हर तपदा हिरदा ठरदा, दर ऐ सतगुरु  दा,
दुखिया दे दुखड़े हरदा, दर ऐ सतगुरु दा॥

इस दर बिना ना कोई और दास दा कोई ठिकाना जी,
जो भी आया तरीके ऐदे बने निमाड़ा जी,
सोही भवसागर तो तरदा, दर ऐ सतगुरु  दा,
दुखिया दे दुखड़े हरदा, दर ऐ सतगुरु दा॥
download bhajan lyrics (106 downloads)