ब्रज में रतन राधिका गोरी

राधिका गोरी, राधिका गोरी,
ब्रज में रतन राधिका गोरी,
राधिका गोरी, राधिका गोरी,
ओ ब्रज में रतन राधिका गोरी.......-2

हर लिनी ब्रश भान भवन ते,
नन्द सुवन करी चोरी,
ओ ब्रज में रतन राधिका गोरी......-2

गुथी भरी केश अंग कुस्मा बली,
ओर सुरंग कच डोरी,
ओ ब्रज में रतन राधिका गोरी.....-2

पिए भूज कंद दिए शोभित मन,
घन दामिनी दुती जोरी,
ओ ब्रज में रतन राधिका गोरी.....-2

कुंज निकुंज विहरत है दोऊ,
अरे यमुना तट बन खोरी,
ओ ब्रज में रतन राधिका गोरी.....-2

कृष्णा दास प्रभु गिरधर नागर,
नागरी नवल किशोरी,
ओ ब्रज में रतन राधिका गोरी......-2
श्रेणी
download bhajan lyrics (363 downloads)