थाँह थाँह भवानी बचड़े ने टोलेया

थाँह थाँह भवानी बचड़े ने टोलेया,
अजे ना तू मेहरा दा भण्डारा खोलेया,
थाँह थाँह भवानी बचड़े ने टोलेया.....

तेरे ने दीदार दीयां लोहणा,
होर नही दातीऐ मैनु लोहणा,
तेरे ने दीदार दीयां तांगा, दोंवे हथ दातीऐ मैं जोड़ा,
कर कृपा नादान मान के,
कर कृपा नादान मान के क्यों मेरा मन डोलेया।
थाँह थाँह भवानी बचड़े ने टोलेया.....

खून जिगर दा मै पीवां, किस दे सहारे दस जीवां,
तेरी याद विच महारानी, गुडीया पटौले नित सीवां,
कर कृपा अनजान मान के,
कर कृपा अनजान मान के क्यों मेरा मन डोलेया।
थाँह थाँह भवानी बचड़े ने टोलेया.....

गुफा विच बैठी पिंडीरानी, जगदम्बे, जगजननी महारानी,
नंगे पैरी दर तेरे आया, कर कृपा कल्यानी,
दे भक्ति दा दान दातिये,
दे भक्ति दा दान दातिये क्यो मैनु दर दर रोलेया।
थाँह थाँह भवानी बचड़े ने टोलेया.....

मेरा हाल वांग है फकीरा, तेरे हथ दातीऐ जगीरा,
नित पूजा मै महारानी, तेरियां सुन्दर तस्वीरा,
कर कृपा निर्दोष मान के,
कर कृपा निर्दोष मान के क्यों मेरा मन डोलेया।
थाँह थाँह भवानी बचड़े ने टोलेया
अजे ना तू मेहरा दा भण्डारा खोलेया
अजे ना तू मेहरा दा भण्डारा खोलेया.....
download bhajan lyrics (210 downloads)