जगजननी माँ आद क्वारी ऐ

जगजननी माँ आद क्वारी ऐ,
तैनु मिलने नु बाँह पसारी ऐ
माये फुलां च लै रही ऐ लोरीयां,
तेरी यादां विच उमरा गुजारी ऐ
जगजननी माँ आद क्वारी ऐ......


प्यार तेरे नाल पा के मैया भुल गईयां जग सारा,
नैया मेरी डगमग डोले मिलदा नहियो किनारा
मैया आओ ते पार लंगा देयो,
असां रो रो के अरजा गुजारी ऐ
मायें फुलां च लै रही ऐ लोरीयां,
तेरी यादां विच उमरा गुजारी ऐ
जगजननी माँ आद क्वारी ऐ......


तरले कर- कर हार गई मै तैनु तरस ना आया,
लोकां दे घर नस-नस जांनी ऐ असां माँ तेरा की गवाए
कई गल्लां ने दिलां विच रखीयां,
अम्बे आवो ते खोल सुना दईऐ
मायें फुलां च लै रही ऐ लोरीयां,
तेरी यादां विच उमरा गुजारी ऐ
जगजननी माँ आद क्वारी ऐ......


मान ना कर तू अम्बे बनण दा बच्चेयां दी गल सुनेया कर,
जेड़ा तेरे द्वारे आवे उसदे भण्डारे भरेया कर
मेरी ऊगंली दे काबु आ वी जा,
तैनु राधा दे वांग नचा दया
अम्बे फुलां च लै रही ऐ लोरीयां,
तेरी यादां विच उमरा गुजारी ऐ
जगजननी माँ आद क्वारी ऐ...
तैनु मिलने नु बाँह पसारी ऐ
माये फुलां च लै रही ऐ लोरीयां,
तेरी यादां विच उमरा गुजारी ऐ
download bhajan lyrics (198 downloads)