जिसको जीवन में मिला सत्संग है

जिसके जीवन मैं मिला सत्संग हैं,
उसे हर घड़ी आनंद ही आनंद है ।....-2


जिसका हरी से जुड़ा संबंध हैं,
उसे हर घड़ी आनंद ही आनंद है ।
जिसका हरी से जुड़ा संबंध हैं,
उसे हर घड़ी आनंद ही आनंद है ।

जिसका जीवन सच्चाई में ढल गया,
उसके पापों का पर्वत भी ढल गया -2
उसके रोम रोम मे बसे गोविंद हैं,
जिसके जीवन मैं मिला सत्संग हैं........

सूरदास मीरा कबीरा ने गाया,
तुलसी नानक ने भी दर्शन पाया ।
जिसके हृदय मे राम नाम बंद है..-2
उसे हर घड़ी आनंद ही आनंद है ।
जिसके जीवन मैं मिला सत्संग हैं.......


स्वर्ग जाने की इच्छा नहीं है
मुक्ति पाने की इच्छा नहीं है
उसे ही मिलता यहाँ परमानंद है...-2
उसे हर घड़ी आनंद ही आनंद है ।
जिसे जीवन मैं मिला सत्संग हैं........
उसे हर घड़ी आनंद ही आनंद है ।
श्रेणी
download bhajan lyrics (198 downloads)