नित खैर मांगा सोहनीय मै तेरी

नित खैर मांगा सोहनीय मै तेरी दुआ न कोई होर मंगदी,
तेरे पैरा च आखिर हो मेरी,

तू मिलिया ते मिल गई खुदाई वे,
हाथ जोड़ रखा पावी न जुदाई वे,
मर जावा गी मैं जे आंख मेतो फेरी,
तेरे पैरा च आखिर हो मेरी..........

तेरे प्यार दिता जदो डा सहारा वे,
ओ माहिया भूल गया मेनू जग सारा,
ख़ुशी एहो मेनू सजना बथेरी,
तेरे पैरा च आखिर हो मेरी..........

पावा वसता के इकली छड़ जाई ना
हस्सा किते मेनू जग दा बनाई ना,
मर जावा गी जे आंख मेतो फेरी,
नित खैर मांगा .........
श्रेणी
download bhajan lyrics (400 downloads)