सच्चा दरबार है मैया दा

सच्चा दरबार है मिया दा
दुरो आउंदे भगत प्यारे एह प्यार है मैया दा
सच्चा दरबार है मैया दा

बैठ द्वारे भोली मैया सब दे दुखड़े हरदी ऐ,
जेह्डा आके हाल सुनावे सुख नाल झोली भरदी ऐ
सब नु मैया चरनी लगाये उपकार है मैया दा
सच्चा दरबार है मैया दा

सब के घर खुशिया ले आये करदे माला माल भवानी
अपने घर में भक्त जगाये ज्योति शरदा नाल भवानी
जो भी माँ का नाम ध्याये वो लाल है मैया दा
सच्चा दरबार है मैया दा

तेरी किरपा है महारानी पाई है कैलाश निधानी
तेरी किरपा से ही सागर गाता रहे सागर तेरी वाणी
ध्यानु लिखदा माँ की भेटे संसार है मैया दा
सच्चा दरबार है मैया दा
download bhajan lyrics (58 downloads)