रब केहन नालो माँ केहना सिखिया

जदों मुहो किसे दा मैं ना लेना सिखिया
रब केहन नालो माँ केहना सिखिया

गल नही सी आउंदी मुहो बोलना नही आउंदा सी
ओहदों केहा माँ जदों बोलना नही आउंदी सी
पैरा उते बैठन तो पैरा ते खलोन तक माँ मेरी सूती नही सी कदे मेरे सोन तक
वखरी रहमत ते सुख अनमोल ऐ,
माँ जिहदे कोल हुंदी रब ओहदे कोल ऐ,
जिहदे हथ फड के मैं तुरना सिखिया
रब केहन नालो माँ केहना सिखिया

जांदी एह पैगमभरा दी गल दो जहान ते माँ दी आवाज जावे सत आस्मान ते
पीरा ते फकीरा ने भी गल माँ दी मोड़ी न
माँ दी दुआ वाली कंध किसे तोड़ी न
माँ दी हवा वाला बुहा रब ढोवे न
इक पल किसे कोलो माँ दूर हॉवे न जिहदे साहा नाल लैके साह लैना सिखिया
रब केहन नालो माँ केहना सिखिया
download bhajan lyrics (32 downloads)