किथे बैह गया समाधियां लाके

किथे बैह गया समाधियां लाके ,
गाऊआं किदे कोल छडियां
धूणा बोड़ा थले बैठा है तपाके
गाउआं किदे कौल छडियां

जंगला च बाबा जी ने मंगल लगा लेया
फेर फेर माला रंग नाम दा चड़ा लेया
कैहन्दा उठना मैं दर्शन पाके
गाउआं किदे कौल छडियां

उम्र नियाणी लगे जोगी रूप रब दा
लाके ध्यान बैठा शिवा नू है लभदा
लाईआ लकड़ा भी धूने च सजाके
गाउआं किदे कौल छडियां

भगत मदन कैहन्दा ऐहो धूमा पै गईआं
चरके जो आईयां गाउआ धूणे कौल बैह  गईआ
जिम्मे बन जांदा कोई है लियाके
गाउआं किदे कौल छडियां
download bhajan lyrics (66 downloads)