झिलमिल ज्योत झलक रया मोती आरती

झिलमिल ज्योत झलक रया मोती
पारी ब्रम्ह निरंजन आरती

काहे करू दिवलो न काहे करू बाती
आसी कायन ज्योत जले हो दिनराती
पारिब्रम्ह निरंजन आरती

तन करू दिवलो न मन करू बाती
सोहम ज्योत जलहू दिनराति
पारिब्रम्ह निरंजन आरती

धरती आकाश उमड़ गया बादल
डाल मुल नही फूल न पाती
पारिब्रम्ह निरंजन आरती

कंचन थाल कपूर की बाती
अखंड ज्योत जलहु दिनराती
पारिब्रम्ह निरंजन आरती

कहे मनरंग आगम की या वाणी
आसी या आरती तीनो लोक म फिरती
पारिब्रम्ह निरंजन आरती

प्रेषक प्रमोद पटेल
यूट्यूब पर
1.निमाड़ी भजन संग्रह
2.प्रमोद पटेल सा रे गा मा पा
9399299349
9981947823
श्रेणी
download bhajan lyrics (49 downloads)