मेरे मालिक दी किरपा बहुत

मेरे मालिक दी किरपा बहुत
पर मेरा चित नही भरदा
गड़ी छोटी मंगी मिली ते हूँ बड़ी नु जी करदा
मेरे मालिक दी किरपा बहुत

इक मंग पूरी होन सारी दूजी खीच लै तयारी
एह भी मालका पूरी करदे जावा सदके लख वारि
सोचा वाले दरया दे विच मन वडक मग करदा,
गड़ी छोटी मंगी मिली ते हूँ बड़ी नु जी करदा
मेरे मालिक दी किरपा बहुत

दस न देखा जो दितियाँ ने इक दी चिंता रेह्न्दी
ऐसे गेड फसी मरजानी इदर से उतर बेह्न्दी
एक न देवे दस भी हर ले इस तो क्यों नही डरदा,
गड़ी छोटी मंगी मिली ते हूँ बड़ी नु जी करदा
मेरे मालिक दी किरपा बहुत

दीप जो देवे मालिक लेके सिख लै रजा विच रेहना
जो किस्मत विच लिखियाँ तेरी ओही पल्ले पैना
ध्यान गुरा दे रख चरना विच देख चडाईया चड दे
गड़ी छोटी मंगी मिली ते हूँ बड़ी नु जी करदा
मेरे मालिक दी किरपा बहुत
download bhajan lyrics (63 downloads)