हे माँ मती दे और भले कुछ दे न दे

हे माँ मती दे और भले कुछ दे न दे
आँखों में शुभ दर्शन पाऊ मैं
तेरा रूप निहारु
हे माँ मती दे और भले कुछ दे न दे

धर्म जगा दे बरमचारनी हे नंदा हा नन्द सवरूपनी
धारनी बैर जगा दे और भले कुछ दे न दे

परमारथ का अर्थ दिलाना ये अधारा पार लगाना,
लोकनी लाज बचा दे और भले कुछ दे न दे

जीवत मुक्ति का वर देना मोकश धमे धातु बन आना,
आनंद धन बरसादे और भले कुछ दे न दे
download bhajan lyrics (190 downloads)