निक्के जहे पालने च पाया बावा लाल माँ

निक्के जहे पालने च पाया बावा लाल माँ दिंदी एह लोरियां,
दूज वाला चन बन आया बावा लाल माँ दिंदी एह लोरियां,

सखियाँ सहेलिया ने लाल नु निहारिया देखो किना सोहना बाल सब ने पुकारियां
एह ता किसे देवते दा होया अवतार माँ दिंदी एह लोरियां,

शहर कसूर विच अजब नजारा ऐ माघ दे महीने विच खीडीया बहारा ने
साधू संत आये सब करन दीदार माँ दिंदी एह लोरियां,

भोला मल ऋषिया नु लाल वखाउन्दे ने
ऋषि मुनि देख मुख वचन सुनांदे ने,
एह ता सुनो दुनिया दा आया तारण हार माँ दिंदी एह लोरियां,