लाल दे द्वारे उते लगियां ने रोनका

लाल दे द्वारे उते लगियां ने रोनका,
भगत द्वारे भेटा गा रहे ने
नाले ताड़ियाँ ते ताड़ियाँ बजा रहे ने

आओ जीने करना दीदार बाबा लाल दा,
आओ जीने करना दीदार तिलका वाले दा
हथ चुक बोलना जय कारा ऐ
नाले पाओना ओहदे दर्श दा नजारा ऐ,

आसा ते मुरादा एह करदा ऐ पुरियां
भगता नु वंड दा एह सबर सबुरियां चरना च जो चित लाउंदें ने
एथो मन चाहा फल पाऊंदे ने

मंगलो एह मुरादा एह ता भरदा ऐ झोलिया
खेल दे ने भगत दे नाम दियां होलियाँ
मेरे लाल दे द्वार उते रंग बरसे
देख देख ऐ नजारा साडा मन हरषे