बाबोसा का द्वार जहाँ वहाँ मेरा आशियाना

तर्ज - तेरे जैसा यार कहाँ....

बाबोसा का द्वार जहाँ , वहाँ मेरा आशियाना
मुझे दरबार मिला ,करू तेरा शुकराना
बाबोसा का द्वार जहाँ....

सब जानते है क्या था , मेरी जिंदगी में पहले
मुझे कोन जानता था , तेरी बंदगी से पहले
करके कृपा मुझपर  , दिया ऐसा नजराना
मुझे दरबार मिला ,करू तेरा शुकराना
बाबोसा का द्वार जहाँ....

बदले अगर ये दुनिया , बदले अगर जमाना
मेरी जिंदगी के मालिक ,कही तुम बदल न जाना
तू ही तो है साथी मेरा , सच्चा तेरा याराना
मुझे दरबार मिला ,करू तेरा शुकराना
बाबोसा का द्वार जहाँ....

तुमसे यही अभिलाषा  जब भी मेरा जनम हो
तेरे नाम से शुरू हो , तेरे नाम पे खतम हो
सामने हो जब  दिलबर  लिखू ऐसा अफसाना
मुझे दरबार मिला ,करू तेरा शुकराना
बाबोसा का द्वार जहाँ....


            ✍️ दिलीप सिंह सिसौदिया
                          " दिलबर "
                   नागदा जक्शन म.प्र.
               
श्रेणी
download bhajan lyrics (85 downloads)