सुनी मैं सिफत तेरी

हो कदे मोड़ दी न मंदिरा तो खाली
सुनी मैं सिफत तेरी ,
हो खाली मोड़ेया न कदे भी सवाली
सुनी मैं सिफत तेरी

शरदा दे नाल जो माँ तेरा ना लेनदे ने रुल्दे न कदे राह किनारेया ते पेंदे ने
तू माँ बंजरा नु देदे हरयाली
सुनी मैं सिफत तेरी ....

कदों पवे राहा तेरियां निहार दे
लगन जिह्ना नु तेरी थ्क्दे न हार दे
सदा करे तू ओहना दी रखवाली
सुनी मैं सिफत तेरी.......

नंगे नंगे पैर जो आंदे तेरे द्वार माँ
पला विच देवे लेख ओहना दे सवार माँ
माही केह्न्दा बोलो जय जय शेरावाली
सुनी मैं सिफत तेरी
download bhajan lyrics (515 downloads)